Dhanteras 2023: धनतेरस पर सोना क्यू खरीदना चाहिए?

dhanteras 2023

Dhanteras 2023: धनतेरस इस साल 10 नवंबर को है और यह वह दिन है जब भारत भर में लाखों लोग सोना या चांदी खरीदते हैं। धनतेरस के दौरान सोना खरीदना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इसे समृद्धि और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है।

Dhanteras 2023 को कब खरीदें सोना?

अगर आप धनतेरस पर सोना खरीदना चाहते हैं तो शुभ मुहूर्त 10 नवंबर को सुबह 12:35 बजे से दोपहर 02:46 बजे के बीचके बीच आप सोना खरीद सकते हैं।

WhatsApp Group Join Now

Dhanteras 2023: धनतेरस पर सोना ख़रीदने का महत्व

1. शुभ

ऐसा कहा जाता है कि धनतेरस वह दिन है जब धन की देवी, देवी लक्ष्मी, दूधिया समुद्र के मंथन के दौरान समुद्र से प्रकट हुईं। ऐसा माना जाता है कि इस दिन सोना खरीदने से देवी लक्ष्मी का आशीर्वाद मिलता है और घर में धन और समृद्धि आती है।

dhanteras 2023

2. पारंपरिक महत्व

धनतेरस भारतीय संस्कृति और इतिहास में गहराई से समाया हुआ है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन सोना खरीदना सौभाग्य लाता है और बुरी आत्माओं से बचाता है। कई परिवार अपने इतिहास को संरक्षित करने और सदियों पुराने रीति-रिवाजों का पालन करने के लिए धनतेरस पर सोना खरीदना एक पारंपरिक प्रथा मानते हैं।

धनतेरस पर क्या खरीदना चाहिए और क्यों?

3. धन सृजन

सोना एक सुरक्षित और भरोसेमंद निवेश माना जाता है। समय के साथ इसका मूल्य बढ़ता है, जिससे यह धन वृद्धि के लिए एक उत्कृष्ट संपत्ति बन जाती है। धनतेरस के दौरान सोना खरीदकर व्यक्ति बुद्धिमान वित्तीय निर्णय ले सकते हैं और शायद सोने की कीमतों में दीर्घकालिक वृद्धि से लाभ उठा सकते हैं।

4. भावुक मूल्य

कई लोग और परिवार सोने को भावनात्मक महत्व देते हैं। यह शादियों या अन्य यादगार घटनाओं की यादें ताज़ा कर सकता है। धनतेरस के दौरान सोना खरीदने से न केवल किसी के धन में वृद्धि होती है, बल्कि इसका भावनात्मक मूल्य भी होता है, जिससे यह एक महत्वपूर्ण लेनदेन बन जाता है।

धनतेरस 2023 तिथि, पूजा समय, शुभ मुहूर्त

Dhanteras 2023: धनतेरस के दौरान भगवान कुबेर, देवी लक्ष्मी और धन्वंतरि की पूजा क्यों की जाती है?

dhanteras-2023

धनतेरस को धन्वंतरि जयंती या भगवान धन्वंतरि की जयंती के रूप में भी जाना जाता है, जो समुद्र मंथन, या देवताओं और असुरों द्वारा समुद्र मंथन के समापन पर अमृत से भरा बर्तन लेकर प्रकट हुए थे। उपचार और आयुर्वेदिक चिकित्सा के हिंदू देवता भगवान धन्वंतरि माने जाते हैं। इस दिन, देवी लक्ष्मी और भगवान कुबेर को भी क्रमशः देवता और धन की देवी के रूप में सम्मानित किया जाता है।

Dhanteras 2023: रात्रि में पूजा का विधान

इनकी पूजा रात्रि में करने की प्रथा है। कुबेर पृथ्वी के खजाने की भी रक्षा करते हैं। वह सिर्फ धन के देवता नहीं हैं, बल्कि यक्षों के भी देवता हैं। मिट्टी के नीचे छिपे खजाने की सुरक्षा की जिम्मेदारी कुबेर पर है। शहर, प्रदेश और देश में आर्थिक समृद्धि की कामना से धनतेरस और दिवाली पर मौनतीर्थ पर भगवान कुबेर की पूजा और यज्ञ किया जाएगा। जो भक्त आर्थिक समृद्धि और व्यावसायिक उन्नति चाहते हैं वे यज्ञ में भाग ले सकते हैं।

Viman

हम पेशेवर लेखकों की एक टीम हैं जो मनोरंजन, कार, बाइक, मोबाइल और गैजेट्स के बारे में लिखना पसंद करते हैं। साथ ही हम इस फील्ड में 4 साल से ऊपर हो गए हैं, हमारे कोई ब्लॉग भी चलते हैं|

Leave a Reply

WhatsApp Group Join Now